संभव कुमारसुचर्चित मोटिवेशनल स्पीकर और एनएलपी गुरु
SPONSORED BY

दिल्ली में चल रहे विश्व पुस्तक मेले में पहले ही दिन पहुंचे साठ हजार पुस्तक प्रेमी

और कैंपस न्यूज़

विश्व भर में विख्यात दिल्ली के प्रगति मैदान में लगने वाले ‘पुस्तक मेला 2020’ की थीम इस बार गांधी के जीवन पर होगी। महात्मा गांधी विश्व इतिहास के एक ऐसे युगपुरुष के रूप में जाने जाते हैं जिनके प्रति निष्ठा का भाव प्रत्येक व्यक्ति के मन में है। पुस्तक मेले में गांधी पर विशेष स्थान दिया गया है साथ ही उनके जीवन पर आधारित विभिन्न भारतीय भाषाओं में 500 से अधिक पुस्तकें उपलब्ध हैं। भारत की राजधानी दिल्ली आजकल साहित्य का सबसे बड़ा केंद्र है।

4 जनवरी 2020 को आरंभ यह पुस्तक मेला 12 जनवरी तक चलेगा। इस पुस्तक मेले की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें अंतराष्ट्रीय स्तर के प्रकाशक, लेखक और पुस्तक प्रेमी शामिल होते हैं। लोग पूरे वर्ष इसका इंतज़ार भी करते हैं। भारत सरकार द्वारा संचालित राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के नेतृत्व के इस पुस्तक मेले का आयोजन होता है।

वर्ष 2020 में आरंभ हुए इस पुस्तक मेले का उद्घाटन मानव संसाधन विकास मंत्री माननीय रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने किया। दो दर्जन से अधिक अंतराष्ट्रीय प्रकाशकों के साथ ही लगभग 1500 भारतीय प्रकाशक यहाँ अपनी पुस्तकों का प्रदर्शन करेंगे। पुस्तक मेले का समय हर बार की तरह 11.00 बजे से 8.00 तक रखा गया है। पुस्तक मेले में प्रवेश करने के लिए बच्चों का टिकट 20 रुपये तथा वयस्कों के लिए टिकट 30 रुपये का टिकट लेना अनिवार्य है।

टिकट प्रगति मैदान गेट नंबर एक के साथ ही प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन पर भी उपलब्ध है। चूंकि लोग भारी संख्या में यहाँ आते हैं इसलिए एक और दस नंबर गेट से प्रवेश की व्यवस्था की गई है। सुविधा के लिए भैरो मंदिर की के साथ ही पार्किंग की सुविधा भी की गई।